Hichki Kyu Aati H: हिचकी क्यों आती है? जानिए कारण और उपाय

Photo of author

Hichki Kyu Aati H(हिचकी क्यों आती है?): शरीर में कई प्रकार की ऐसी आम प्रक्रिया होती हैं। जिनके माध्यम से हम रोजाना गुजरते रहते हैं। हम उन बातों को ध्यान नहीं देते हैं। हिचकी आना हमारे शरीर का एक हिस्सा भी माना जा सकता है। क्योंकि दिन में एक या दो बार हिचकी अवश्य आती है। हिचकी आना खतरा है या नुकसानदायक साबित हो सकता है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको Hichki Kyu Aati H(हिचकी क्यों आती है?) और हिचकी के क्या उपाय है, हिचकी के रोकथाम क्या है, हिचकी नुकसानदायक है या नहीं इन सभी के बारे में डिटेल में जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

हिचकी क्या होता है?

Hichki Kyu Aati H(हिचकी क्यों आती है?): हिचकी जिसे सामान्य भाषा में कई लोग हिक्का भी कहते हैं। हिचकी आने का हमारे शरीर के लिए एक मुख्य कारण ऐसा माना जाता है, कि स्वसन तंत्र और पाचन तंत्र की प्रक्रिया की वजह से हिचकी आती है। पाचन तंत्र या स्वसन तंत्र में कोई भी प्रकार का विकार होता है। तो ऐसे में हिचकी के द्वारा लक्षण प्रदर्शित किए जाते हैं।

Hichki Kyu Aati H: हिचकी क्यों आती है? जानिए कारण और उपाय
Hichki Kyu Aati H: हिचकी क्यों आती है? जानिए कारण और उपाय

हालांकि हिचकी आने पर ज्यादातर लोग उसे ऐसे ही समझ बैठते हैं और उसे इग्नोर करते हैं। लेकिन हिचकी को इग्नोर करना नहीं चाहिए। यह आपके लिए नुकसानदायक भी हो सकती है। लगातार लंबे समय से आने वाली हिचकी आपके पाचन तंत्र और श्वसन तंत्र से जुड़ी कोई बड़ी बीमारी का संकेत दे रही होती है। अतः ऐसे में आपको कभी भी हिचकी को ऐसे इग्नोर नहीं करना चाहिए। उसका उपचार करवाने के बारे में सोचना चाहिए और हिचकी को रोकने के लिए रोकथाम के कारनामे को अपनाते हुए हिचकी को रोकना चाहिए।

हमारे शरीर में डायाफ्राम में कई प्रकार के संक्रमण की वजह से भी हिचकी का बार बार आना हमें संकेत देता है, कि हमारे डायाफ्राम में भी किसी प्रकार का संक्रमण हो सकता है।

हिचकी रोग के प्रकार (Types of Hiccup)

आयुर्वेद में हिचकी के पांच प्रकार बताए गए हैं-

  • महाहिक्का- इसमें अधिक तेजी से हिचकी (hichki) आती है।
  • महा-गम्भीरा- गंभीर आवाज के साथ हिचकी आती है।
  • व्येपता हिक्का- हिचकी लगातार ना आकार रुक-रुक कर आती है।
  • क्षुद्रा हिक्का- थोड़ी देर के लिए आती है और फिर शांत हो जाती है।
  • अन्नजा हिक्का- प्रायः छीक के साथ धीमी आवाज के साथ होती है। यह जलपान करने या भोजन करने से या कभी-कभी अपने आप ही दब जाती है।

हिचकी क्यों आती है? | Hichki Kyu Aati H

हिचकी क्यों आती है(Hichki Kyu Aati H): इसके बारे में जानकारी लेने के लिए लोग इधर-उधर ज्ञान खंगालना शुरू कर देते हैं। आज के समय में ज्यादातर लोग गूगल के माध्यम से सर्च कर रहे हैं कि हिचकी क्यों आती है। हिचकी आने के बहुत सारे कारण होते हैं आपके शरीर में कोई भी प्रकार का असंतुलन यदि पाचन तंत्र और श्वसन तंत्र में होता है तो ऐसे में हिचकी के माध्यम से आपको संकेत किया जाता है हिचकी आने के निम्नलिखित कारण (Hichki Kyu Aati H) हम आपको नीचे दे रहे हैं।

  • अस्वस्थ भोजन करना ।
  • ठण्डे आहार का सेवन।
  • बदहजमी की स्थिति में भोजन करना।
  • ठण्डी जगह पर रहना।
  • धुआं, धूल, तेज वायु का सेवन करना।
  • ज्यादा भोजन करना या भोजन करते समय बात करना।
  • कार्बोनेटेड युक्त पेय पदार्थों को पीना।
  • अधिक शराब पीना।
  • किसी तरह के तनाव में होना या भावनात्मक रूप से उत्तेजित होना।
  • ज्यादा देर तक च्यूइंग गम चबाना।
  • बहुत देर तक हंसने से भी व्यक्ति के अन्दर अनजाने में हवा चली जाती है, और हिचकी आती है।
  • इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन
  • तनाव को दूर करने वाली एक प्रकार की दवा (Tranquilizers) का अधिक सेवन।
  • नींद ना आने की परेशानी

गर्भवती महिलाओं को हिचकी क्यों आती है

Hichki Kyu Aati H: सामान्य महिलाओं या सामान्य पुरुषों को हिचकी आने के कई अन्य कारण होते हैं। लेकिन गर्भवती महिलाओं को यदि हिचकी आती है तो ऐसे में कई अन्य कारण उत्पन्न होते हैं जो सामान्य महिला को हिचकी आने के कारण होते हैं। वह गर्भवती महिला में होने के साथ-साथ अन्य कारण (Garbhvati Mahila Ko Hichki Kyu Aati H) भी होते हैं जो कुछ इस प्रकार से है।

  • गर्भावस्था के दौरान पेट में दबाव बनने की वजह से
  • गर्भावस्था के दौरान पेट में एसिड रिफ्लक्स होने की वजह से
  • गर्भावस्था के दौरान भ्रूण को नियमित स्वास नहीं पहुंचने की वजह से
  • भ्रूण के पाचन तंत्र और श्वसन तंत्र में कोई असंतुलन होने की वजह से

हिचकी को रोकने के उपचार

Hichki Kyu Aati H: हिचकी आना वर्तमान समय में एक आम बात हो गया है। लेकिन हिचकी कई बार आपके लिए नुकसानदायक भी साबित हो सकती है। ऐसे में हिचकी को रोकने के उपचार के बारे में जानकारी लेना बहुत ही जरूरी है। हिचकी को रोकने के उपचार हम आपको नीचे कुछ इस प्रकार से प्रदान करवा रहे हैं।

  • आंवला और मिश्री का सेवन करना
  • नींबू और मिश्री का सेवन करना
  • नींबू और नमक का सेवन करना
  • पीपली और मिश्री का सेवन करना
  • सोठ और हरड़ का सेवन करना
  • कुटीर और शहद का सेवन करना
  • हींग और मक्खन का सेवन करना

बार बार हिचकी आने के नुकसान

कई लोगों को हिचकी एक दो बार आकर रुकती नहीं है। ऐसे में यह आपको कोई बड़ी बीमारी का संकेत दे रही होती है। हालांकि पाचन तंत्र में कोई भी असंतुलन की वजह से हिचकी आना एक आम बात है। लेकिन लंबे समय तक यदि आपको हिचकी आ रही है। तो ऐसे में उस बात को बिल्कुल इग्नोर ना करते हुए उस पर अवश्य गौर करें, क्योंकि यह आपको कोई बड़ी बीमारी होने का संकेत दे रही है। बार बार हिचकी आने के नुकसान या बार बार हिचकी आने के संकेत कि यदि हम बात करें तो उसकी जानकारी हम आपको नीचे कुछ इस प्रकार से प्रदान करवा रहे हैं।

  • तनाव
  • निमोनिया
  • मस्तिष्क व पेट का ट्यूमर
  • पार्किसन
  • डायबिटीज
  • किडनी की बीमारी

हिचकी को रोकने के लिए मंत्र | हिचकी को रोकने का मंत्र

यदि बार बार हिचकी आ रही है तो सबसे पहले आप पानी पीले पानी पीने के बावजूद भी हिचकी बंद नहीं हो रही है। तो आपको शक्कर के कुछ गाने अपने मुंह में रख लेने हैं या फिर मिश्री को मुंह में रखकर उसे चूसना है। ऐसा करने पर भी यदि हिचकी नहीं रुकती है, तो आपको लंबी सांस लेना है और उसे छोड़ना है। ऐसा 5 से 10 मिनट तक करने पर आपकी हिचकी अवश्य रुक जाती है। लंबी सांस लेना और छोड़ना हिचकी का 1 रामबाण उपाय माना जाता है।

FAQ’s

हिचकी आना शुभ है या अशुभ है?

ऐसे तो सामान्य तौर पर हर व्यक्ति को हिचकी आती है लेकिन यदि तीन 4 मिनट से अधिक हिचकी चल रही है तो यह आपके शरीर के लिए अशुभ संकेत देती है।

हिचकी बंद ना हो तो क्या करें?

यदि किसी व्यक्ति को लगातार हिचकी आ रही है तो ऐसे में व्यक्ति को पानी पीना चाहिए या फिर 4 से 5 मिनट तक लंबी सांस लेकर छोड़ना चाहिए।

हिचकी क्यों आती है? Hichki Kyu Aati H

हिचकी हमारे शरीर में पाचन तंत्र या फिर स्वसन तंत्र में कोई प्रकार का असंतुलन होता है तो उसकी वजह से लक्षण के तौर पर आती है।

निष्कर्ष

हमारे शरीर में पाचन तंत्र में कोई भी गड़बड़ होती है या फिर ऐसे कह सकते हैं, कि हमारे शरीर का पाचन तंत्र असंतुलित हो जाता है। तो ऐसे में शरीर में कई प्रकार की गतिविधियां होना शुरू होती है। जिसमें हिचकी आना भी एक आम बात है आपके शरीर में यदि पाचन तंत्र और श्वसन तंत्र में कोई असंतुलन होता है। तो सबसे पहला लक्षण हिचकी आना होता है।

हिचकी आना एक आम बात है। लेकिन कई बार लंबे समय तक हिचकी आना आप को चिंता में डाल सकता है। आज के इस आर्टिकल में हमने आपको हिचकी क्यों आती है (Hichki Kyu Aati H) और हिचकी के उपाय क्या है। इसके बारे में डिटेल में जानकारी दी है। हमें उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी यदि किसी व्यक्ति को हमारी इस आर्टिकल से जुड़ा हुआ कोई भी सवाल है तो वह हमें कमेंट के माध्यम से बता सकता है।

यह भी पढ़े:

मेरा नाम राहुल सिंह है। मैं EntranceExamZone वेबसाइट का मालिक हूँ। मेरी रूचि नई सामग्री को आप तक पहुँचाने में अधिक है। इसलिए मेने अपनी यह वेबसाइट बनाकर आप तक हर नई जानकारी पहुंचाने का लक्ष्य लिया है। मेरे पास 3 वर्ष से अधिक SEO का अनुभव है और मैं 5 वर्ष से भी अधिक समय से कंटेंट राइटिंग कर रहा हूँ।

Leave a Comment