परीक्षा की तैयारी कैसे करे? (Exam Ki Teyari Kaise Kre)

Photo of author

परीक्षा की तैयारी कैसे करे? (Exam Ki Yeyari Kaise kre): क्या आप किसी एग्जाम की तैयारी करना चाहते हैं? अगर हाँ, तो यह आर्टिकल आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण होने वाला है तो इसे अच्छे से पढ़िए और अपने जीवन मे काम लीजिये। इस आर्टिकल में आपको मैं बताऊंगा की बहुत ही कम समय मे परीक्षा की अच्छे से तैयारी कैसे कर सकते है और पढाई करने के बहुत ही आसान तरीके जिनको अपना कर आप एग्जाम की तैयारी बहुत कम समय मे कर सकते हो। कुछ प्रभावी तरीके भी बताऊंगा जिससे आप अपने एग्जाम मे अच्छे से काम कर पाओगे। आज के आर्टिकल में हमने आपको परीक्षा की तैयारी कैसे करे? (Exam Ki Yeyari Kaise kre) के बारे में जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

परीक्षा की तैयारी कैसे करे? | Exam Ki Teyari Kaise Kre

परीक्षा की तैयारी कैसे करे?: जब भी हमारी परीक्षा होने वाली होती है, तो कम समय होने के कारण हम अपनी हिम्मत तोड़ देते है या फिर कम समय होने की वजह से घबरा जाते है। उस वजह से परीक्षा की तैयारी अच्छे से नहीं कर पाते है और जो भी हम याद करते है। वो टेंशन की वजह से और घबराने की वजह से दिमाग से निकल जाता है,और स्टूडेंट्स अच्छे से परीक्षा नहीं दे पाते, इसलिए हमें अपने दिमाग को रिलैक्स रखना है और उसके बाद तैयारी शुरू करनी है। क्योकि अगर आप किसी काम को प्लानिंग के साथ करना शुरू करे तो वह काम बहुत ही अच्छा होता है।

परीक्षा की तैयारी करते समय मन को स्थिर रखे

इसी तरह हमे पढ़ाई भी प्लानिंग के साथ करनी चाहिए, क्योकि पढाई करने वाले बच्चो के दिमाग मे और कोई टेंशन हो या न हो ये टेंशन हमेशा रहती है की एग्जाम आने वाले है। अभी तो मैंने कुछ पढ़ा भी नहीं है और एग्जाम इतनी जल्दी आ गए, तो उन बच्चो के दिमाग मे एग्जाम को लेकर बहुत टेंशन रहती है और इस टेंशन मे उन्हें ना तो खाना पीना अच्छा लगता है ना ही उनका किसी दूसरी चीज़ मे मन लगता है। जिसके कारण उनके स्वास्थ्य पर भी प्रभाव पड़ता है।

फिर ऐसे समय मे जितनी भी किताबे पढ़ो कम ही लगती है ऐसे मे क्या पढ़े स्टूडेंट्स को समझ नहीं आता ऐसे मे कौनसी किताबे हमारे लिए पढ़नी सही है और कौनसी नहीं यह भी नहीं पता चलता क्योकि एग्जाम की टेंशन रहती है और वह सही फैसला नहीं ले पाते हैं। जैसा कि आप सब लोग जानते हैं कि आज के समय में ज्यादातर लोग अपना अधिकतर समय मोबाइल,कंप्यूटर इत्यादि इन सब चीजों में ही व्यर्थ करते हैं इसका सदुपयोग और दुरुपयोग दोनों है। इन सभी चीजों का सही से उपयोग ना करके इनका दुरुपयोग करते हैं और समय का भी दुरुपयोग करते हैं।

मोबाइल और कंप्यूटर की बजाय किताबो से तैयारी करे?

मोबाइल और कंप्यूटर लोगो को पढाई से ज्यादा भर्मित करती है मोबाइल और कंप्यूटर के माध्यम से की गयी पढाई में एकाग्रता कम हो जाती है। कंप्यूटर और मोबाइल का प्रयोग हम लोग पढ़ाई करने में भी अच्छे से कर सकते हैं आजकल देखा जा रहा है कि स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे भी मोबाइल के आदी होते जा रहे हैं उनका ध्यान पढ़ाई में कम और मोबाइल में ज्यादा लगता है पढ़ाई से ज्यादा उनको मोबाइल चलाना अच्छा लगता है।

जिसके कारण उनका मन स्थिर नहीं रहता है। मैं यह नहीं कह रहा कि मोबाइल चलाना अच्छी बात नहीं है लेकिन मोबाइल का सही जगह पर उपयोग करना आना चाहिए मैं आपको इस आर्टिकल में यह भी बताने वाला हूं कि अपने कंप्यूटर और अपने मोबाइल का प्रयोग आप पढ़ाई करने में कैसे कर सकते है। देखिए जहां तक एग्जाम्स की बात है ना एग्जाम स्टूडेंट्स की लाइफ में पार्ट एंड पार्सल का काम करते हैं यानी बहुत इंपॉर्टेंट है कुछ ऐसे बच्चे होते हैं जिनको एग्जाम बिल्कुल पसंद नहीं होते हैं और कुछ ऐसे भी होते हैं जिनको एग्जाम्स बहुत पसंद होते है।

अब अगर पसंद नहीं है तो क्या एग्जाम्स नहीं होंगे फिर भी होंगे ना, फिर हम इसको टेंशन क्यों बनाये फिर क्यों नहीं हम इसकी तैयारी बिल्कुल आसान तरीके से और रिलैक्स हो कर करें, आराम से सोच समझ कर पॉजिटिव माइंड रखकर एग्जाम दे, इसको बिल्कुल कोई हव्वा कोई टेंशन कोई स्ट्रेस मत बनाइए अब क्या कीजिए। आज देखिए मैं इस आर्टिकल में वह सारी बातें बताऊंगा जो आपको परीक्षा देने में मदद करेंगी।

आत्मविश्वस के साथ पढाई करे?

परीक्षा की तैयारी कैसे करे?: सबसे पहले तो अपने अंदर कॉन्फिडेंस पैदा कीजिए, किसी काम को करने का आपके अंदर कॉन्फिडेंस उत्पन्न होता है। तो कॉन्फिडेंस के साथ किया गया कार्य बहुत ही अच्छे तरीके से सफल होता है और अगर बिना कॉन्फिडेंस अगर कोई काम करते हैं तो वह काम हमारा कभी सफल नहीं होता तो परीक्षा के समय भी हमें पूरा कॉन्फिडेंस रखना है पर ओवरकॉन्फिडेंस में नहीं आना है अपने आप पर खुद पर भरोसा रखना है कि हां मैं यह काम कर सकता हूं या कर सकती हूं और उसके बाद कॉन्फिडेंस से अपने एग्जाम देने हैं चलिए शुरुआत करते है अब मैं आपको बताता हूं कि सबसे पहले क्या करना है।

टाइम टेबल (Time Table Banakar Exam ki Teyari Kaise Kre)

किसी भी काम को करने के लिए सबसे जरूरी होता है। टाइम टेबल डेली रूटीन का टाइम टेबल कितने बजे खाना है, कितने बजे सोना है और कितनी देर पढ़ना है इन सभी का एक टाइम टेबल होना जरूरी है। क्योंकि बिना टाइम टेबल के कुछ भी करना व्यर्थ होगा इससे हमारा समय भी व्यर्थ होगा और ना ही हमारी पढ़ाई पूर्ण रूप से हो पाएगी सबसे पहले हम कितने बजे उठते हैं। उसका टाइम सेट करना है कि हमें इतने बजे उठना है कितने बजे से लेकर कितने बजे तक पढ़ाई करनी है। कौन सा टॉपिक इतनी देर तक पढ़ना है कौन सा सब्जेक्ट कितनी देर तक पढ़ना है कितना टाइम खाने में देना है कितना टाइम सोने में देना है और कितना टाइम पढ़ाई में देना है। यह सारा टाइम निकाल कर अपना एक टाइम टेबल बना लीजिए।

पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों का विश्लेषण करें

  • पिछले कुछ वर्षों में जितनी भी परीक्षाएं हुई है उन सब के प्रश्न पत्रों को लाकर उन्हें सॉल्व करें और उनमें से जो प्रश्न नहीं आते हैं उन प्रश्नों के टॉपिक को दोबारा पढ़ें और दोबारा समझे उस टॉपिक पर ज्यादा ध्यान दे। वह टॉपिक नहीं समझ आता है तो अपने किसी मित्र या टीचर की सहायता ले उनसे पूछे।

परीक्षा का सिलेबस

  • परीक्षा के सिलेबस को अच्छे से देखें और सिलेबस के हिसाब से टॉपिक को तैयार करें जो टॉपिक अत्यधिक महत्वपूर्ण है उन टॉपिक को पहले पूरा कर ले जिन टॉपिक से लगता है कि इस टॉपिक से प्रश्न ज्यादा आ सकते हैं उन टॉपिक को पहले कवर कर ले नंबर वाइज सारे टॉपिक को पूरा करें जिस टॉपिक की संभावना परीक्षा में आने की कम है सारे टॉपिक के बाद उसे पढ़ें।
  • एक एक टॉपिक को पढ़े और हर टॉपिक से कुछ महत्वपूर्ण प्रश्नो को निकले जो एग्जाम मे आ सकते है।
  • जिन जिन टॉपिक को अच्छे से पढ़ चुके हो उन सभी टॉपिक के नोट्स बना ले और नोट्स को पढ़े।

रिविज़न करे

  • जितने भी टॉपिक आप पढ़ो उन टॉपिक को रिविज़न करने का समय भी अपने टाइम टेबल के अंदर अलग से रखे। रिविज़न करने से आपने जो कुछ भी पढ़ा होगा वो आपके दिमाग मे अच्छे से रहेगा रिविज़न करने से चीज़े ज्यादा समय तक याद रहती है इसलिए रिविज़न भी परीक्षा की तैयारी के लिए महत्वपूर्ण है इसलिए रिविज़न भी करना चाहिए।
  • जो टॉपिक समझने मे आपको समय लगता है या जो टॉपिक समझ नहीं आता उस टॉपिक पर ज्यादा ध्यान दे, अगर वो टॉपिक परीक्षा मे आने वाला है तो, अगर वो परीक्षा मे नहीं आने वाला तो उस टॉपिक पर अपना समय खराब ना करे उसकी जगह कोई दूसरा टॉपिक पढ़ ले।
  • मोबाइल और कंप्यूटर का प्रयोग हम लोग मूवी देखने मे या वीडियो गेम खेलने मे ही करते है। लेकिन मोबाइल और कंप्यूटर का प्रयोग हम लोग पढाई मे भी कर सकते है मोबाइल और कंप्यूटर मे हम इंटरनेट की सहायता से परीक्षा मे आने वाले महत्त्वपूर्ण प्रश्न को देख सकते है।
  • ऑनलाइन अपने डाउट क्लियर कर सकते है जिस टॉपिक मे कोई प्रॉब्लम आ रही हो तो वह टॉपिक हम यूट्यूब या गूगल की सहायता से पढ़ सकते है और अपने डाउट क्लियर कर सकते है ।
  • जिन लोगो ने वो परीक्षा दे रखी हो उन लोगो से उस परीक्षा की जानकारी ले लो कोनसा प्रश्न कितने अंक का है ये भी सब पता होना चाहिए और उसी हिसाब से तैयारी करनी चाहिए।
  • रेगुलर पढाई करे एक दिन का भी गेप ना ले बड़े टॉपिक को छोटे छोटे हिस्सों मे डिवाइड करके पढ़े।
  • लगातार एक ही विषय ना पढ़े ऐसा नहीं करना चाहिए क्योकि एक ही चीज़ मे हम ज्यादा समय तक पढ़ सकते और ना हम याद रख पाएंगे इसलिए विषय बदलते रहे और अलग अलग समय रखे सबको पढ़ने का।
  • एक शांत स्थान पर बैठ कर पढाई करे अकेले बैठ कर।
  • छोटे छोटे ब्रेक लेकर पढाई करे ताकि लम्बे समय तक बैठ कर आप पढाई कर सको।
  • जो टॉपिक समझ नहीं आता तो आप इंटरनेट की मदद ले सकते हो या अपने किसी दोस्त की या टीचर की मदद से वह टॉपिक समझ सकते हो।
  • पुरे दिन का पढ़ने के बाद प्रतिदिन उसका रिविज़न करे पढाई बंद करने से पहले जितना पढ़ा उस सभी का रिविज़न करे इससे जितना भी पढ़ा हुआ होगा वह हमे याद रहेगा।
  • पॉइंट्स बनाकर पढ़े सभी चीज़ो के पॉइंट्स बना कर पढ़े टॉपिक्स को क्लियर करे।
  • समय पर सोये समय पर उठे क्योकि सोना बहुत जरुरी है,नींद लेना जरुरी है। माइंड को सही रखने के लिए अगर ठीक से नींद नहीं लोगे तो किसी भी काम मे मन नहीं लगेगा और अच्छे से पढ़ भी नहीं पाओगे ना ही कुछ याद रहेगा इसलिए कम से कम 7 – 8 घंटे नींद लेनी जरुरी है नहीं तो पढ़ते समय मे नींद आएगी।
  • किसी भी काम को अगर हम कर रहे है तो उसमे कंसंट्रेशन का होना बहुत जरूरी है नहीं तो होगा। यह कि हम पढ़ तो रहे हैं लेकिन हमारे दिमाग के अंदर कोई जा नहीं रहा है। बल्कि एक घंटा पढ़ाई करने के बावजूद दिमाग में अभी तक टॉपिक गया ही नहीं इसकी सबसे बड़ी वजह है।
  • कंसंट्रेशन की कमी इसलिए कंसंट्रेशन का होना बहुत जरूरी है। इसलिए सुबह जल्दी उठ कर मेडिटेशन करे मेडिटेशन करने से मनुष्य का दिमाग इस्तिर रहता है और पढ़ा हुआ ज्यादा समय तक याद रहता है।
  • प्रतिदिन योगा करे योगा करने से बॉडी फिट रहेगी माइंड भी सही और फ्रेश रहेगा जब तक बॉडी फिट नहीं रहेगी। तब तक दिमाग भी सही तरीके से काम नहीं करता. पढ़ाई के साथ-साथ आप शरीर पर भी ध्यान जरूर दें। क्योंकि अगर आपके शरीर में कोई तकलीफ रहेगी तो आपका पढ़ाई में मन भी नहीं लगेगा और कोई टॉपिक याद भी नहीं होगा।
  • साप्ताहिक टारगेट सेट करें और उस टारगेट को पूरा करे टारगेट बना बना के पढ़े और अपने टारगेट को पूरा करे। जो आपको सरल टॉपिक लगता है उसको आप पहले पढिए और जो मुश्किल टॉपिक है, उनको बाद मै

परीक्षा की तैयारी कैसे करे?

यह भी पढ़े:

FAQ’s Related How To Preparation Of Exam

परीक्षा की तैयारी कैसे करे?

यदि आप परीक्षा की तैयारी करना चाहते हो आपको हमारा आर्टिकल पूरा पढ़ना पड़ेगा इस आर्टिकल में हमने परीक्षा की तैयारी करने के बहुत सरल तरीके बताये है जो आपको परीक्षा की तैयारी करने में बहुत मदद करेंगे।

सिविल सेवा UPSC परीक्षा का पूरा नाम क्या है?

सिविल सेवा UPSC का पूरा नाम UNION PUBLIC SERVICE COMMISSION है।

परीक्षा की तैयारी करने के लिए सबसे जरुरी क्या है?

परीक्षा की तैयारी करने के लिए सबसे जरुरी है टाइम टेबल बना कर पढाई करना और अपने आप पर कॉन्फिडेंस होना बहुत जरुरी है बिना कॉन्फिडेंस के कोई भी काम सही से नहीं कर पाएंगे।

कम समय में अपना सलेबस कैसे पूरा करे?

कम समय में अपना सलेबस पूरा करने के लिए टॉपिक्स के नोट्स बना कर पढ़े।

पढाई करते समय बोर ना हो उसके लिए क्या करे?

ग्रुप में पढाई करे एक दूसरे से प्रश्न पूछे एक दूसरे की मदद करे पढाई में।

निष्कर्ष

परीक्षा की तैयारी सही तरीके से करना ही आपको सफल बनाता है। इसके लिए आप कोई भी परीक्षा की तेयारी कर रहे है। तो आपको सबसे पहले परीक्षा की तैयारी कैसे करे? इसके बारे में जानकारी होना जरुरी है। अत: आज के इस आर्टिकल में हम आपको परीक्षा की तैयारी कैसे करे? (Exam Ki Teyari Kaise Kre) के बारे में जानकारी देने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है, की हमारे द्वारा दी गयी जानकारी आपको पसंद होगी यदि किसी व्यक्ति को इस आर्टिकल से जुड़ा सवाल है तो आप हमें कमेंट में बता सकते है।

Leave a Comment

TATA NEW CAR, BEST TATA CAR, LATEST MODEL TATA CAR, TATA PUNCH NEW MODEL, TATA PUNCH PRICE